42 तालाबों के जिर्णोंद्धार के लिए केंद्र को लिखा पत्र

पाकुड़, 31 अक्टूबर : पाकुड़ नगर परिषद अध्यक्ष संपा साहा ने केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत को पत्र लिखकर नगर परिषद क्षेत्र के तालाबों के जिर्णोंद्धार और उसके पानी को इस्तेमाल करने लायक बनाने की मांग की है। केंद्रीय मंत्री को लिखे पत्र के मुताबिक नौ किलोमीटर क्षेत्र वाले  नगर परिषद क्षेत्र में कुल 42 तालाबों की एक श्रृंखला है। जो शहर के दोनों ओर अवस्थित है।झारखंड सरकार ने जुडको के जरिए पानी के पूर्णतया संरक्षण के मद्देनजर भौगोलिक सूचना प्रणाली आधारित मास्टर प्लान तथा क्षेत्र के विकास के लिए ड्राफ्ट तैयार किया है।

बताते चलें कि पाकुड़ के तत्कालीन राजा ने कोई तीन सौ वर्ष पहले जल संरक्षण के मद्देनजर इन तालाबों का निर्माण कराया था।ताकि पाकुड़ राज में पानी का जलस्तर बना रहे।उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों स्थानीय के के एम काॅलेज में पारिस्थितिकी तंत्र आधारित सेमिनार में विशेषज्ञों ने बताया था कि पाकुड़ में तालाबों की श्रृंखला भूमिगत पानी को संबद्ध रखने के लिए इंजीनियरिंग तथा डिजाइन तैयार की थी। जोतालाबों की श्रृंखला की ही तरह है। जिसे वर्तमान समय में वैज्ञानिकता की कसौटी पर आंकना जरूरी है।साहा ने लिखा है कि इस अमूल्य धरोहर को संरक्षित व सुरक्षित रखने के लिए वाटर बाॅडीज की अधोसंरचना के निर्माण को व्यवस्थित व विकसित  करने की पहल की मांग की है। जिसके लिए जुडको द्वारा निर्देशित प्रक्रिया के अनुपालन के  तहत संरक्षण के लिए सभी तालाबों को डी-ड्रेन करते हुए ड्रेनेज सिस्टम के जरिए जोड़ कर उन्हें पार्कों व टूरिज्म के रूप में विकसित व इनके प्रदूषण मापन, जैविक परीक्षण, जल शोधन तथा डी-सिल्ट किया जाए।ताकि तेजी से घटते भूमिगत जल स्तर बना रह सके।