शव दफनाने को लेकर दो समुदायों के बीच तनाव, मौके पर पहुंचे अधिकारी व पुलिस

गोड्डा, 09 नवम्बर : जिले के ठाकुरगंगटी थाना क्षेत्र के रूंजी पंचायत अंतर्गत बस्ता पहाड़ी गांव में मंदिर के समीप बने कब्रिस्तान में शव दफनाने को लेकर दो समुदाय के बीच तनाव हो गया है। मौके पर अधिकारी और पुलिस बल तैनात है और लोगों को समझाने का प्रयास चल रहा है।

बताया गया कि गांव के महादेव मंदिर और शिवगंगा के निकट बस्ता गांव के एक समुदाय के लोग शव को दफनाने के लिए गड्ढा खोद रहे थे। इसकी जानकारी मिलने के बाद स्थानीय कई गांव के लोग मौके पर जमा हो गए। मंदिर के 80 वर्षीय मुख्य पुजारी गोविंद बाबा, मोहन बाबा, मन्नी बाबा, नारायण बाबा, तेजू रविदास व अन्य धार्मिक संस्था के बाबा और ग्रामीणों ने विरोध करना शुरू कर दिया। जिससे दोनों समुदाय आमने सामने आ गए और तनाव व्याप्त हो गया। इसकी सूचना मिलते ही अंचलाधिकारी डॉ. खगेन महतो, थाना प्रभारी फुलेश्वर सिंह अन्य पुलिसकर्मियों के साथ विवादित स्थल पर पहुंचे और सबसे पहले भीड़ को नियंत्रित किया। हिंदू समाज के लोग वहां किसी भी सूरत में शव दफन करने देने को तैयार नहीं थे। आक्रोशित लोगों ने खाड़ी बगीचा से रुंजी मुख्य मार्ग पर जाम लगा दिया। समाचार लिखे जाने तक विवाद का कोई हल नहीं निकला और अंचलाधिकारी, थाना प्रभारी सहित सभी पुलिस अधिकारी लोगों को समझाने में लगे हैं।

बताया गया कि रविवार को बस्ता ग्राम की 60 वर्षीय बुजुर्ग महिला मैमून खातून की मौत हो गई थी। जिसके शव को दफनाने को लेकर कब्र खोदा जा रहा है। मृत बुजुर्ग महिला का पुत्र दूसरे राज्य में काम करने गया था। उसके आने के बाद ही महिला का शव दफनाया जाएगा। इस संबंध में 80 वर्षीय बुजुर्ग भुम्फोड़नाथ महादेव मंदिर के मुख्य पुजारी गोविंद बाबा ने बताया कि उन्होंने अपने जीवनकाल में इस शिवगंगा के निकट किसी को शव दफनाते नहीं देखा और ना ही सुना। तो फिर आज शव क्यों इस जगह पर दफनाया जाएगा। वह भी मंदिर और शिवगंगा के बीच में। श्रद्धालुओं को पूजा करने में काफी परेशानी होगी। मामले को लेकर तनाव व्याप्त है।